Insert title here

Budget Speech

वर्ष 2019 अत्यंत चुनौतीपूर्ण था। दो-दो बार बाढ़, फिर अल्प वर्षापात के कारण लाखों हेक्टेयर जमीन में बुआई का नहीं हो पाना इन सबका मजबूती से मुकाबला किया गया। मुख्यमंत्री के 7 निश्चय के अधिकांश निश्चय हासिल कर लिए गए हैं। जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए 24,500 करोड़ रू. के व्यय से ‘जल जीवन-हरियाली’ अभियान की शुरूआत करने वाला बिहार देश का पहला राज्य बन गया। जल जीवन हरियाली के साथ-साथ शराबबंदी, तिलक-देहज, बाल विवाह, जैसे सामाजिक मुद्दों पर जागृति हेतु 19 जनवरी, 2020 को 18 हजार 34 कि.मी. लम्बी विश्व की सबसे बड़ी मानव श्रृखंला बनाई गई जिसमें 5 करोड़ 16 लाख से ज्यादा लोगो ने भाग लेकर विश्व कीर्तिमान स्थापित किया |

वहीं वैश्विक आर्थिक परिदृश्य अनिश्चितता तथा आर्थिक सुस्ती (Slowdown) के दौर से गुजर रहा है।International Monetary Fund (IMF) के अनुसार वैश्विक आर्थिक विकास दर 3 प्रतिशत से नीचे रहने की संभावना है जोे 2008-09 के Global financial crisis के बाद सबसे निचले स्तर पर है। इस परिपेक्ष्य में वर्ष 2019-20 में भारत की विकास दर भी अनुमान से काफी कम रहने की संभावना है।

इस आर्थिक सुस्ती (economic slowdown) के माहौल के बावजूद बिहार ने वर्ष 2018-19 में स्थिर मूल्यों पर 10.53 प्रतिशत की विकास दर एवं वत्र्तमान मूल्यों (at current prices) पर 15.01 प्रतिशत की विकास दर पर हासिल किया है। पिछले 3 वर्षों से लगातार बिहार ने राष्ट्रीय विकास दर से ज्यादा विकास दर हासिल किया है। स्थिर मूल्य (2011-12) पर वर्ष 2018-19 का प्रति व्यक्ति आय का अनुमान 30,617 है। पिछले वर्ष की तुलना में इसमें 9.0 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई जबकि राष्ट्रीय स्तर पर संगत वृद्धि दर 5.6 प्रतिशत है।

हर बार चुनौतियों को ऐसे हराते हैं हम,
जख्म जितना गहरा हो, उतना मुस्कराते हैं हम।





Insert title here