Insert title here
आगामी शैक्षणिक सत्र के पहले होगी 3,460 सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति
Date : 2019-06-13
राजभवन में आयोजित कुलपतियों की बैठक को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार लोकसेवा आयोग द्वारा विभिन्न विषयों के 3,460 सहायक प्राध्यापकों के साक्षात्कार की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है। आगामी शैक्षणिक सत्र प्रारंभ होने से पूर्व क्रमबद्ध तरीके से उनकी नियुक्ति कर ली जाएगी।
उन्होंने कहा कि 30 जून तक सभी विश्वविद्यालय सहायक प्राध्यापकों की रिक्तियां जो करीब 7 हजार अनुमानित हैं, को एकत्र कर राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग को भेजें तो एक साल के अंदर प्रक्रिया पूरी कर नियुक्ति की जायेगी।
श्री मोदी ने विश्वविद्यालयों में छात्रों की कम उपस्थिति पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि डिजिटल, वीडियो और स्मार्ट क्लास के माध्यम से कक्षा को प्रभावी बनाने की जरूरत है। उन्होंने सभी कुलपतियों को सुझाव दिया कि आगामी शैक्षणिक सत्र प्रारंभ होने के साथ ही सभी विश्वविद्यालयों में छात्र संध का चुनाव सम्पन्न करा लिया जाए।
उन्होंने आश्वस्त किया कि सीएफएमएस की प्रारंभिक दिक्कतों को शीघ्र दूर कर विश्वविद्यालयों के शिक्षकों व कर्मचारियों को समय पर वेतन का भुगतान सुनिश्चित किया जायेगा।
Download
NIYUKTI-13-06-2019 pdf.pdf
NIYUKTI-13-06-2019.docx



5 साल में स्वास्थ्य प्रक्षेत्र में 27.5 हजार करोड़ खर्च
Date : 2019-06-11
आईजीआईएमएस,पटना के परिसर में 500 शय्या वाले अस्पताल भवन के शिलान्यास समारोह को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पिछले 5 साल में बिहार के स्वास्थ्य प्रक्षेत्र में 27,500 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। 2018-19 में 7,472 करोड़ खर्च किए गए वहीं चालू वित्तीय वर्ष में 9,622 करोड़ के बजट प्रावधान किया गया है।
श्री मोदी ने कहा कि पिछले 13-14 वर्षों में बिहार के स्वास्थ्य मानकों में उल्लेखनीय सुधार का नतीजा है कि प्रति हजार शिशु मृत्यु दर 2005 की 61 की तुलना में घट कर 38 हो गयी है जबकि असम में यह दर 44, ओडिशा और उत्तर प्रदेश में 41-41 फीसदी हैं। लड़के और लड़की की मृत्यु दर में भी पहले जहां 15 अंक का अन्तर था वहीं भारत सरकार के एसआरएस की रिपोर्ट के अनुसार 2017 में घट कर यह मात्र 3 रह गया है। प्रसव पूर्व जांच, 84 प्रतिशत तक टीकाकरण, सभी मेडिकल कॉलेजों व जिला अस्पतालों में नवजात शिशु की समुचित देखभाल की व्यवस्था और बाल विवाह निषेद्य के अभियान से यह उपलब्धि हासिल हुई है।
जन्म दर पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि बिहार में आज भी 26.4 प्रतिशत जबकि उत्तर प्रदेश में 25.9, ओडिशा में 18.3 और प.बंगाल में 15.2 प्रतिशत है। जनसंख्या नियंत्रण एक चुनौती बनी हुई है। 2001 में बिहार की जनसंख्या 8.28 करोड़ थी जो 2011 में बढ़ कर 10.40 करोड़ हो गयी। अगर इसी दर से वृद्धि हुई तो 2021 तक बिहार की जनसंख्या करीब 13 करोड़ हो जायेगी। लड़कियों की शिक्षा व जन जागरूकता से ही जन्म दर नियंत्रित होगी।
स्वास्थ्य सेवा में सुधार के जरिए सरकार केवल किडनी, कैंसर, हार्ट जैसी बड़ी बीमारियों के इलाज की सुविधा ही नहीं उपलब्ध करा रही है बल्कि अपनी विभिन्न योजनाओं से गरीबों की सेवा भी कर रही है।
Download
IGIMS-11-06-2019.docx
IGIMS-11-06-2019.pdf



तेज आर्थिक विकास से आम लोगों में खर्च की क्षमता बढ़ी
Date : 2019-06-09
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि राज्य में तेज आर्थिक विकास के परिणामस्वरूप निर्माण कार्य तेज गति से होने के कारण वर्ष 2018-19 में 4,849 करोड़ का सीमेंट और 3,368 करोड़ का आयरन स्टील बाहर के राज्यों से बिकने के लिए आया। इसी प्रकार लोगांे में खर्च करने की क्षमता बढ़ने का नतीजा है कि इसी अवधि में 4,859 करोड़ की मोटरसाइकिल, 4,179 करोड की मोटर कार और 5,524 करोड़ के मोबाइल फोन बिकने के लिए यहां आए। वर्ष 2018-19 में 9,098 करोड़ की दवाएं और 2,944 करोड़ का ट्रैक्टर भी बेचने के लिए बिहार लाया गया।
श्री मोदी ने बताया कि जीएसटी लागू होने के दूसरे वर्ष 2018-19 में पिछले वर्ष 2017-18 की तुलना में राजस्व संग्रह में 26.17 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बिहार की उपलब्धि उल्लेखनीय रही है। इस अवधि में वाणिज्य कर विभाग का कुल राजस्व संग्रह 25,583 करोड़ रहा जिसमें पेट्रोलियम पदार्थों व अन्य करों से 772.78 करोड़ तथा जीएसटी से 24,810. 22 करोड प्राप्त हुआ।
01 जुलाई, 2017 से जीएसटी लागू होने के बाद बिहार में 2,44,609 नए करदाताओं ने निबंधन कराया है जबकि इसके पूर्व वैट और सर्विस टैक्स के तहत मात्र 1,63,323 करदाता ही निबंधित थे।
कर राजस्व संग्रह में वृद्धि और नए करदाताओं की संख्या में उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी यह दर्शा रही है कि बिहार तेज गति से आर्थिक विकास के पथ पर अग्रसर है।
Download
TAX-09-06-2019.docx
TAX-09-06-2019.PDF



पटना सहित बिहार के 5 शहरों में स्थापित होंगे वायु गुणवत्ता जांच केन्द्र
Date : 2019-06-08
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के सबसे प्रदूषित 20 शहरों में बिहार के भी तीन शहर पटना, गया और मुजफ्फरपुर शामिल हैं जिसे सरकार ने चुनौती के रूप में लिया है। राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद को इस साल नवम्बर तक 16.96 करोड़ की लागत से पटना में अतरिक्त चार, मुजफ्फरपुर और गया में एक-एक तथा भागलपुर, दरभंगा में एक-एक वायु गुणवत्ता जांच के नए केन्द्र स्थापित करने का निर्देश दिया गया है। ज्ञातव्य है कि वर्तमान में पटना के तारामंडल के पास तथा गया एवं मुजफ्फरपुर में मात्र एक-एक वायु गुणवत्ता जांच केन्द्र कार्यरत हैं।
उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्ययोजना (National Clean Air Programme) के अन्तर्गत देश के 103 शहरों में बिहार के भी 3 शहरों पटना, गया और मुजफ्फरपुर को शामिल कर केन्द्र सरकार बिहार को 10 करोड़ की राशि उपलब्ध करा रही है, जिसे वायु गुणवत्ता अनुश्रवण प्रणाली की 3 इकाई , तीन मेकेनिकल डस्ट स्वीपिंग मशीन, पानी के छिडकाव के लिए वाहन व उपकरण, हरित कार्यक्रम, कम्पोस्टिंग इकाई, चार चलित प्रवर्तन इकाई (Mobile Enforcement Unit) एवं जन जागरूकता संबंधी कार्यों पर खर्च किया जायेगा।
Download
AIR QUALITY -08-06-2019.docx
AIR QUALITY -08-06-2019.pdf



पूरे राज्य में भव्य तरीके से मनाया जायेगा अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस
Date : 2019-06-07
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्य सचिवालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में 5 वां अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस, 21 जून के आयोजन की तैयारियों की विशेष समीक्षा की तथा आम लोगों से अधिक से अधिक संख्या में योग दिवस के आयोजन में भाग लेने की अपील की। पटना के पाटलिपुत्र खेल परिसर, कंकड़बाग में योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। डीएम और सिविल सर्जन तथा अन्य सभी विभागों से समन्वय स्थापित कर राज्य के सभी जिलों में योग दिवस पर भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। बैठक में कला-संस्कृति, युवा व खेल विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार, विभागीय सचिव रवि परमार आदि मौजूद थे।
श्री मोदी ने निर्देश दिया कि शैक्षिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संगठनों से सम्पर्क स्थापित कर अधिक से अधिक लोगों को योग दिवस कार्यक्रम में सहभागी बनाया जाए। एनएसएस, एनसीसी कैडेट्स, नेहरू युवा केन्द्र, आर्ट ऑफ लिविंग व योग के क्षेत्र में काम कर रही अन्य संस्थाओं से भी सम्पर्क कर उन्हें आयोजन में शामिल करने का प्रयास किया जायेगा।
श्री मोदी ने सभी सामाजिक व सांस्कृतिक संस्थाओं से अपील की कि वे अपने-अपने बैनर के तले सार्वजनिक स्थलों या हॉल में योग दिवस का भव्य आयोजन कर उसमें अधिक से अधिक लोगों को सहभागी बनायें।
Download
WhatsApp Image 2019-06-07 at 4.32.02 PM (1).jpeg



01 से 15 अगस्त तक मनेगा वन महोत्सव, लगेंगे डेढ़ करोड़ पौधे
Date : 2019-06-07
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने शुक्रवार को मुख्य सचिवालय स्थित अपने कक्ष में पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग तथा ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कहा कि इस वर्ष आगामी 01 से 15 अगस्त तक पूरे प्रदेश में मनाये जाने वाले ‘वन महोत्सव’ के दौरान 1.5 करोड़ पौधारोपण किया जायेगा जिसमें ग्रामीण विकास विभाग का 50 लाख व वन विभाग का एक करोड़ पौधा लगाने का लक्ष्य है।
पौधारोपण के इस महा अभियान में स्वयंसेवी संस्थाओं, स्कूल-कॉलेज, बिहार रेजिमेंटल सेंटर, दानापुर तथा सशस्त्र सीमा बल की सभी इकाइयों व एनसीसी के कैडेटों,जीविका के स्वयं सहायता समूहों के अलावा बड़ी संख्या में स्वेच्छा से निजी भूमि पर पौधारोपण व संरक्षण करने वालों को शामिल किया जायेगा। संस्थाओं को मुफ्त में और आम नागरिकों को सशुल्क पौधे उपलब्ध कराये जायेंगे।
श्री मोदी ने वन विभाग को एक साल से अधिक अवधि व 4 फीट लम्बे पौधे को गैबियन के अंदर लगाने का निर्देश दिया। 5 किमी से कम लम्बाई की ग्रामीण सड़कों के किनारे मनरेगा के तहत व 5 किमी से अधिक लम्बाई की सड़कों के किनारे वन विभाग की ओर से पौधारोपण किया जायेगा। जीविका के स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से एक हजार पंचायतों में 25-25 पौधे लगाये जायेंगे। जीविका की दीदियां जैव विविधता प्रजाति जैसे पीपल, गूलर, बर, जामुन आदि के 5-5 पौधे अपनी निजी भूमि पर लगायेंगी। शहरी क्षेत्रों में भी व्यापक अभियान चला कर पौधारोपण किया जायेगा।
श्री मोदी ने आम लोगों से इस महा अभियान से जुड़ने की अपील करते हुए कहा कि वन महोत्सव के आखिर में समापन समारोह आयोजित कर पौधारोपण का बेहतर काम करने वालों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा।
Download
VAN MAHORSAV-07-06-2019.docx
VAN MAHORSAV-07-06-2019.docx



बिहार का वित्तीय प्रबंधन देश में सबसे बेहतर
Date : 2019-06-06
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि देश के प्रमुख उद्योग संगठन सीआईआई की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय प्रबंधन की कुशलता के कारण राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक ( Fiscal Performance Index ) में बिहार प्रथम स्थान पर है। सीआईआई ने इस रिपोर्ट में राजकोषीय अनुशासन ( Fiscal Discipline ) के पैमाने पर राज्यों के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए 2004-05 से लेकर 2016-17 की अवधि में नॉन स्पेशल कैटेगरी में शामिल 18 राज्यों का राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक तैयार किया है।
यह सूचकांक चार मानकों-राजस्व व पूंजी व्यय सूचकांक ( Revenue And Capital Expenditure Index ), राज्य के अपने टैक्स की प्राप्तियों का सूचकांक ( Own Tax Reciepts Index ),राजकोषीय व राजस्व घाटे को दर्शाने वाले डेफिसिट प्रूडेंस इंडेक्स ( Deficit Prudence Index ) और कर्ज सूचकांक (Debt Index ) के आधार पर तैयार किया गया है। इसमें मध्य प्रदेश दूसरे और छत्तीसगढ़ तीसरे स्थान पर है। 100 अंकों वाले इस सूचकांक में बिहार का स्कोर सर्वाधिक 66.5 है जबकि पश्चिम बंगाल का सबसे कम 23.3 है।
राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक में बिहार ने गुजरात, महाराष्ट्र और हरियाणा जैसे संपन्न राज्यों को जहां पीछे छोड़ दिया है वहीं सबसे खराब प्रदर्शन पश्चिम बंगाल, पंजाब और केरल का है। व्यय की गुणवत्ता के मामले में आर्थिक रूप से समृद्ध राज्यों का प्रदर्शन बेहद खराब रहा है। रिपोर्ट के अनुसार कम आय वाले राज्यों में बिहार, छत्तीसगढ़ और ओड़िशा ने व्यय में गुणवत्ता बरतते हुए राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक में शानदार प्रदर्शन किया है।
श्री मोदी ने वित्त विभाग के सभी अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा है कि उनके प्रयास व कुशलता से ही बिहार यह उपलब्धि हासिल करने में सफल हुआ है।
Download
FISCAL INDEX-06-06-2019.pdf
FISCAL INDEX-06-06-2019.docx



5 साल में बिजली पर 55 हजार करोड़ खर्च
Date : 2019-06-04
अधिवेशन भवन में आयोजित ऊर्जा विभाग की विभिन्न योजनाओं के कार्यारंभ व उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार में पिछले 5 साल में बिजली प्रक्षेत्र पर 55 हजार करोड़़ रुपये तथा पिछले वित्तीय वर्ष में बजट आवंटन 10,257 करोड़ था, मगर 12,117 करोड़ रु.खर्च किए गए। इसका परिणाम विगत लोकसभा चुनाव में प्रचार के दौरान दिखाई दिया कि सर्वाधिक तालियां बिजली के लिए बजती थी।
श्री मोदी ने कहा कि 2012 के 37 लाख की तुलना में विद्युत उपभोक्ताओं की संख्या 2019 में बढ़ कर 1 करोड़ 48 लाख हो गयी हैं। 2018-19 में बिजली उपभोक्ताओं ने 9,072 करोड़ रुपये बिल के रूप में भुगतान किया है जबकि राज्य सरकार ने उपभोक्ताओं को 5,100 करोड़ सबसिडी के रूप में दिया है। घरेलु उपभोक्ताओं को 1.93 रु., कुटिर ज्योति योजना के तहत 3.98 रु. और कृषि उपभोक्ताओं को 5.11 रु. प्रति यूनिट सब्सिडी दिया जाता है।
श्री मोदी ने कहा कि बिजली की उपलब्धता के कारण जहां इन्वर्टर और जेनरेटर सेट की बिक्री कम हो गयी है वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में मोबाइल रिचार्जिंग करने वाली दुकानें भी बंद हो गयी हैं। एक जमाना था जब बिजली के तार पर लोग कपड़ा सूखाते थे मगर अब उसमें करंट प्रवाहित होता है। वर्तमान सरकार बिजली के मामले में अंधकार से यात्रा प्रारंभ कर आज प्रकाश के पथ पर तेजी से अग्रसर है।
Download
BIJALI-04-06-2019.docx
BIJALI-04-06-2019.pdf



हिन्दू-मुस्लिम मिल कर करें देश व राज्य का विकास
Date : 2019-06-02
पटना के राजकीय मदरसा शमशुल होदा के स्टूडेंट हॉस्टल के परिसर में आयोजित दावत-ए-इफ्तार के मौके पर रोजेदारों को बधाई देते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार और देश के हिन्दू-मुस्लिम व अन्य सभी धर्म-सम्प्रदायों के लोग आपस में मिलजुल कर रहें तथा राज्य व देश के विकास में अपना योगदान दें। दावत-ए-इफ्तार का आयोजन उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की ओर से पिछले 25 वर्षों से प्रत्येक साल रमजान के पाक मौके पर किया जाता रहा है।
श्री मोदी ने कहा कि रमजान के महीने में सभी रोजेदार भाई 30 दिन तक अन्न-जल का परित्याग कर कठिन तप करते हैं। रमजान का पाक महीना आपसी प्रेम व सौहार्द बनाये रखने का सन्देश देता है। जहां शांति व प्रेम है,वहीं विकास और प्रगति भी सम्भव है।
इस मौके पर केंद्रीय विधि,आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद,लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह संसद पशुपति कुमार पारस,राज्य के पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय,पीएचडी मंत्री बिनोद नारायण झा,पूर्व केंद्रीय मंत्री सैय्यद शाहनवाज़ हुसैन,रामकृपाल यादव , सत्तारूढ़ दल के उप मुख्य सचेतक अरुण कुमार सिन्हा,विधायक नितिन नवीन,डॉ संजीव चौरसिया,सत्यनारायण यादव,मनोज सिंह,एम एल सी सुनील सिंह,पूर्व मंत्री रविन्द्र चरण यादव, महाचन्द्र प्रसाद सिंह,भाजपा प्रदेश प्रवक्ता प्रो अजफर शमशी,व पूर्व विधायक राजीव रंजन,भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री अब्दुल रहमान, मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष तुफैल कादरी,मुफ़्ती अब्दुल बहाव, मदरसा इस्लामिया शमशुल होदा के प्रिंसिपल मो मशहूद अहमद आदि मौजूद थे। इमाम हाफिज सनुल्लाह ने नमाज अदा कराया।
Download
WhatsApp Image 2019-06-02 at 7.14.20 PM.jpeg



उपमुख्यमंत्री ने दी प्रधानमंत्री व केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल बिहार के सभी मंत्रियों को शुभकामनाएं
Date : 2019-05-30
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने प्रचंड बहुमत के साथ जीत हासिल कर दूसरी बार एनडीए-2 सरकार के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने वाले नरेन्द्र मोदी को बधाई देते हुए केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल बिहार के सभी मंत्रियों सर्वश्री रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद, गिरिराज सिंह, आर के सिंह,अश्विनी कुमार चौबे व नित्यानंद राय को शुभकामनाएं दी हैं।
श्री मोदी ने कहा कि केन्द्रीय मंत्रिमंडल में अनुभव व नई ऊर्जा, उत्साह का समन्वय हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल सभी मंत्रीगण देश के चतुर्दिक विकास व प्रधानमंत्री ‘ सबका साथ, सबका विकास व सबका विश्वास ’ के आह्वान को साकार करेंगे।
म्ंत्रिमंडल के गठन में बिहार व सम्पूर्ण देश, सभी क्षेत्रों व वर्गों-समुदायों को समुचित प्रतिनिधित्व देकर प्रधानमंत्री ने स्पष्ट कर दिया है कि अगले पांच साल में भारत देश के साथ पूरी दुनिया में न केवल नई ऊचाइयांे को छूयेगा बल्कि विकास की नई गथाएं भी लिखेगा।
Download
WhatsApp Image 2019-05-29 at 11.12.05 AM.jpeg



वर्ष 2019-20 में GeM Portal च्वतजंस के माध्यम से होगी 2000 करोड़ रू0 की खरीद
Date : 2019-05-29
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि वर्ष 2018-19 में सरकार के विभिन्न विभागों द्वारा 5839 क्रयादेश निर्गत कर GeM (Government e Marketplace) Portal के माध्यम से 423 रू0 करोड़ रू0 की खरीद की गई है तथा वर्ष 2019-20 में 2000 करोड़ रू0 की खरीद का लक्ष्य है। इस पोर्टल पर निबंधित आपूर्तिकर्ताओं में से 2507 बिहार के हैं तथा विभिन्न विभागों के कुल 418 कार्यालयों के अधीन 694 यूजर्स निबंधित हैं। GeM Portal के माध्यम से अधिप्राप्ति के मामले में बिहार ने आंध्र प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु आदि राज्यों को पीछे छोड़ते हुए देश में नौवां स्थान प्राप्त किया है।
उन्होंने कहा कि वर्ष 2018-19 में GeM Portal के माध्यम से सर्वाधिक 218 करोड़ रू0 के व्यय से विभिन्न नगर निकायों द्वारा छोटे वाहन, डस्टबीन आदि, 106 करोड़ रू0 के व्यय से गृह विभाग द्वारा टाटा मोटर्स, महिन्द्रा आदि कम्पनियों से वाहनों एवं समाज कल्याण विभाग द्वारा 57 करोड़ रू0 के सामानों की खरीद की गई। इस पोर्टल से वाहनों की अधिप्राप्ति बाजार मूल्य से लगभग 10% कम पर कीमत पर हुई है।
विदित हो कि भारत सरकार के GeM Portal के माध्यम से विभिन्न सरकारी विभागों एवं कार्यालयों द्वारा फ्लिपकार्ट (Flipkart)], अमेजाॅन (Amazon) आदि की तरह ही आनलाईन खरीद की जा सकती है तथा बिहार एवं राज्य से बाहर के आपूर्तिकर्ता इस पर निबंधन करवा सकते है।
ज्ञातव्य हो कि सामग्रियों एवं सेवाओं की अधिप्राप्ति में दक्षता, मितव्ययिता, निष्पक्षता, प्रतिस्पर्धा एवं पारिदर्शिता लाने के उद्देश्य से राज्य सरकार के विभिन्न विभागों एवं कार्यालयों द्वारा GeM Portal का उपयोग किया जा रहा है। इस पर उपलब्ध आपूर्तिकर्ताओं से 50 हजार रू0 तक की सामग्री की खरीद सीधे की जा सकती है। 50 हजार रू0 से अधिक की खरीद Online bidding एवं Online reverse auction द्वारा किये जाने का प्रावधान है।
Download
Press Release 29-05-2019.docx
Press Release 29-05-2019.pdf



30 जून तक दूर होंगी CFMS से वेतन भुगतान की कठिनाइयाँ
Date : 2019-05-28
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने CFMS (Comprehensive Financial Management System -समेकित वित्तीय प्रबंधन प्रणाली) लागू होने के उपरांत कर्मचारियों के वेतनादि के भुगतान में आ रही कठिनाइयों की समीक्षा की तथा 30 जून तक इन्हें दूर करने का निदेश दिया। लगभग ढ़ाई महीने बाद तथा लोकसभा चुनाव के उपरांत पहली बार उन्होंने आज सचिवालय स्थित अपने कक्ष में वित्त विभाग के अधिकारियों के साथ CFMS सहित विभिन विभागीय गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने 01 अप्रैल, 2019 से CFMS को सफलतापूर्वक लागू करने हेतु सभी संबंधित पदाधिकारियों एवं कर्मियों को बधाई दी। इस प्रणाली के तहत राज्य के लगभग कुल 2.90 लाख कर्मियों में से 2,21,775 कर्मियों का वेतन भुगतान किया जा चुका है। CFMS से अभी तक 2555 करोड़ रू0 का भुगतान किया जा चुका है। श्री मोदी ने नई व्यवस्था लागू होने के कारण आ रही कठिनाइयों के चलते वेतन के भुगतान से वंचित 31000 शिक्षकों एवं 11000 चैकीदारों सहित अन्य सभी कर्मियों का डाटा संग्रहित कर उन्हें 30 जून तक वेतन देने का निदेश दिया। उन्होंने 31 मार्च, 2019 के बाद सेवानिवृत्त कर्मचारियों के पंेशन भुगतान में आ रही कठिनाई को भी दूर करने के निदेश दिया। विदित हो कि CFMS लागू होने के बाद राज्य का सम्पूर्ण वित्तीय कार्य एवं कोषागार प्रणाली पूर्णतः आॅनलाईन एवं पेपरलेस हो गया है। वर्ष 2019-20 का बजट CFMS के माध्यम से ही तैयार किया गया है तथा सभी प्रकार की स्वीकृतियाँ आॅनलाईन ही दी जा रही है। शीघ्र ही बिहार कोषागार संहिता, पी0डब्लू0डी0 कोड एवं बिहार बजट मैनुअल में भी आवश्यक सुधार किया जायेगा ताकि उन्हें CFMS के अनुकूल बनाया जा सके।
Download
Press Release 28-05-2019.pdf
Press Release 28-05-2019.docx



जेट एयरवेज के गोयल को दुबई भागने से रोकना बड़ी कार्रवाई
Date : 2019-05-26
उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि एनडीए सरकार ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ ग्रहण से पहले ही भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़े तेवर दिखाते हुए जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल को पत्नी के साथ विदेश भागने से रोक लिया। गोयल पर नौ भारतीय बैंकों के 6 हजार करोड़ रुपये कर्ज है।
उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने इतनी तेजी दिखायी कि गोयल दम्पती को रोकने के लिए मुंबई से उड़ान भरने के बावजूद विमान को वापस उतारा गया। यदि ऐसा न होता तो सिर्फ तीन घंटे बाद गोयल दुबई के मरीना स्थित अपने पेंटहाउस में होता।
श्री मोदी ने कहा कि एनडीए सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में विजय माल्या-नीरव मोदी जैसे भगोड़ों के खिलाफ सख्ती की थी। 9 हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेकर भागने वाले माल्या की 13 हजार करोड़ की सम्पत्ति अब तक जब्त की जा चुकी है और नीरव को लंदन की जेल में पहुंचा कर मुंबई में उसका बंगला डायनामाइट से उड़ाया जा चुका है। माल्या और नीरव का प्रत्यर्पण कर जल्द भारत लाया जाएगा। एनडीए सरकार ही वेस्टलैंड हेलीकाप्टर डील में दलाली खाने वाले क्रिश्चियन मिशेल को दुबई से पकड़ कर लायी थी।
बैंकों के कर्ज और धोखाधड़ी के मामले में लिप्त नरेश गोयल को आसमान से उतार कर सरकार ने भ्रष्टाचार के विरुध सर्जिकल स्ट्राइक जारी रखने का संकेत दिया है।
श्री मोदी ने कहा कि जो लोग माल्या और नीरव के विदेश भागने पर शोर मचा रहे थे, उन्होंने गोयल को भागने से रोकने पर चुप्पी क्यों साध ली?
Download
sushil-kumar-modi_650x400_41463326973.jpg



2014 में मोदी के ‘नाम’ तो 2019 में ‘काम’ पर जनता ने दिया सकारात्मक जनादेश
Date : 2019-05-23
बिहार व पूरे देश में भाजपा और एनडीए की ऐतिहासिक जीत पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 2014 में देश की जनता ने नरेन्द्र मोदी के ‘नाम‘ पर वोट दिया था जबकि 2019 में ‘काम’ पर वोट दिया है। यह सकारात्मक जनोदश है। सभी जाति, वर्ग और समुदाय के लोगों ने एनडीए के पक्ष में मतदान किया है, इसी का नतीजा है कि एनडीए उम्मीदवारों की जीत का अन्तर दो-दो,तीन-तीन लाख का है और एनडीए को 54 प्रतिशत मत मिले हैं। 2014 से भी यह बड़ी लहर है। 2020 के बिहार विधान सभा चुनाव में एनडीए और बेहतर प्रदर्शन करेगा।
श्री मोदी ने कहा कि बिहार में एनडीए ने 40 में से 39 सीटों पर जीत दर्ज किया है इसके पीछे भाजपा, श्री नीतीश कुमार और श्री रामविलास पासवान के साथ सशक्त गठबंधन तथा घटक दलों के लाखों कार्यकर्ताओं के दिन-रात की मेहनत के साथ नरेन्द्र मोदी के मजबूत नेतृत्व और श्री अमित शाह की संगठन-क्षमता का चमत्कार है। जनता का आशीर्वाद सुनामी के रूप में एनडीए को मिला है।
उन्होंने कहा कि यह जनादेश न्यू इंडिया के लिए मिला है। पश्चिम बंगाल में चमत्कार हुआ है। जाति की दीवार को ध्वस्त कर एनडीए के पक्ष में वोट करने के लिए श्री मोदी ने बिहार की जनता को बधाई दी।
Download
60967822_1088924481294875_3050081273046368256_o.jpg



बिहार में एनडीए को वाॅकओवर,यूपीए का खाता भी नहीं खुलेगा
Date : 2019-05-20
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए को वाॅकओवर मिला हुआ है क्योंकि एनडीए और यूपीए (महागठबंधन) के वोट में 20 प्रतिशत से ज्यादा का फासला है। इसबार महागठबंधन का बिहार में खाता भी नहीं खुल पाएगा। 2009 में जदयू और 2014 में एलजेपी के साथ चुनाव लड़ने वाले एनडीए को बिहार में यूपीए से करीब 11 प्रतिशत से ज्यादा मत मिले थे। इस बार जदयू और एलजेपी के साथ आने से यह अन्तर 20 प्रतिशत से ज्यादा का है।
2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा जदयू के साथ चुनाव लड़ी थी तो 38 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए थे और 32 सीटों पर जीत मिली थी। तब राजद-लोजपा साथ थे और उन्हें 26 प्रतिशत मत और मात्र 4 सीटों पर जीत मिली थी। एनडीए को यूपीए से 11 प्रतिशत से अधिक की बढ़त थी।
2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा-लोजपा साथ चुनाव लड़ी थी और एनडीए का वोट प्रतिशत 39.41 था तथा 31 सीटों पर जीत मिली थी जबकि यूपीए को मात्र 29 प्रतिशत वोट मिला था जो एनडीए से 10 प्रतिशत कम था। 2014 में अलग से चुनाव लड़े जदयू को 16 प्रतिशत वोट मिला था जो आज एनडीए के साथ है।
श्री मोदी ने कहा कि एनडीए के 2014 के 39.41 प्रतिशत वोट में जदयू के 16 प्रतिशत को जोड़ लें तो 2019 में एनडीए के पास 52.41 प्रतिशत वोट है जो यूपीए से करीब 22 प्रतिशत अधिक है। जब एक-दो प्रतिशत वोट के अन्तर से हार-जीत का फासला बढ़ जाता है तो इतनी बड़ी बढ़त के बाद क्या यूपीए बिहार में अपना खाता भी खोल पायेगा?
Download
NDA-20-05-2019.docx
NDA-20-05-2019.pdf



चुनाव आयोग व अन्य संवैधानिक संस्थाओं से कांग्रेस करती रही है छेड़छाड़
Date : 2019-05-18
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि चुनाव आयोग सहित अन्य संवैधानिक संस्थाओ की गरीमा को गिराना और उसके कामकाज में हस्तक्षेप करना कांग्रेस की आदत रही है। 1989 में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान मनोनुकूल काम नहीं करने से उत्पन्न मतभेद के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने मुख्य चुनाव आयुक्त पेरी शास्त्री के पर कतरने के लिए तो 1993 में टी एन शेषन से मतभेद के बाद पी वी नरसिंहा राव ने एक सदस्यीय चुनाव आयोग को तीन सदस्यीय बनाया था।
श्री मोदी ने कहा कि राजीव गांधी द्वारा चुनाव आयोग को त्रिसदस्यीय बनाने के निर्णय को वी पी सिंह की सरकार ने पलट कर फिर से एक सदस्यीय कर दिया था। मगर 1993 में तत्कालीन मुख्य चुनाव आयुक्त टी एन शेषन से विवाद के बाद कांग्रेस की नरसिंहा राव की सरकार ने आयोग के कार्यकलाप में हस्तक्षेप करते हुए उसे फिर से तीन सदस्यों में परिवर्तित कर दिया।
चुनाव आयोग में किसी मुद्दे पर सर्वानुमति नहीं होने की स्थिति में बहुमत के आधार पर निर्णय लेने की नियमावली कांग्रेस के कार्यकाल में ही बनाई गई थी। अगर वर्ममान चुनाव आयोग में किसी मुद्दे पर सर्वसम्मति नहीं है तो यह आयोग का आन्तरिक मामला है और इसमें वर्तमान केन्द्र सरकार की कोई भूमिका व हस्तक्षेप नहीं है।
Download
CHUNAV AAYOG-18-05-2019.docx
CHUNAV AAYOG-18-05-2019.PDF



कांग्रेस देश में अस्थिर सरकार और अराजकता की कर रही साजिश
Date : 2019-05-17
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल बनने की लड़ाई लड़ रही कांग्रेस 10-20 एमपी वाले क्षेत्रीय दल के किसी नेता को पीएम बना कर देश में अस्थिर सरकार व अराजकता पैदा करना चाहती है। मुंगेरी लाल का हसीन सपना देख रही कांग्रेस का इतिहास चरण सिंह, चन्द्रशेखर, देवगौड़ा और गुजराल जैसी कठपुतली सरकार को बाहर से समर्थन देकर फिर चार-छह महीने में गिराने, अस्थिरता पैदा करने और देश को मध्यावधि चुनाव में झोंकने का रहा है।
देश की जनता अनेक बार कमजोर और कांग्रेस की बैसाखी पर चलने वाली सरकार के अंजाम को भुगत चुकी है। 28 जुलाई, 1979 को प्रधानमंत्री बने चौधारी चरण सिंह की सकार को कांग्रेस ने एक महीने भी नहीं चलने दिया और नतीजतन लोकसभा का सामना किए बिना ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था। कांग्रेस की दगाबाजी की वजह से मात्र 7 महीने तक चन्द्रशेखर और 10 महीने तक चली देवगौड़ा की सरकार का हस्र भी देश देख चुका है। अल्पमत की आई के गुजराल की सरकार भी अपना एक साल पूरा नहीं कर पाई।
हार तय देख कांग्रेस की मंशा फिर किसी मधुकोड़ा और देवगौड़ा की तलाश करने की है। आखिरी चरण के मतदान के पहले पीएम पद की दावेदारी छोड़ कर कांग्रेस 42 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली ममता, 35-38 सीटों पर चुनाव लड़ रहे मायावती, अखिलेश तथा चन्द्रबाबू नायडू को अपनी जाल में फंसा कर देश में अस्थिरता पैदा करना चाह रही है।
मगर इस बार कांग्रेस का मंसूबा पूरा होने वाला नहीं है, देश की जनता पिछले छह चरणों के चुनाव में ही भाजपा को बहुमत दे चुकी है। आखिरी चरण की 59 सीटों पर जीत हासिल कर नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में प्रचंड बहुमत के साथ एनडीए की सरकार सुनिश्चित है।
Download
CONGRESS-17-05-2019.docx
CONGRESS-17-05-2019.PDF



आयोग राजद की तरह टीएमएसी पर भी लगाए लगाम
Date : 2019-05-16
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि लालू-राबड़ी के राज में आज जो प. बंगाल में हो रहा है ठीक उसी तरह बिहार में भी बूथ लूट, चुनावी हिंसा,गरीब-कमजोर वर्ग के मतदाताओं को मतदान से रोकने आदि के कारण चुनाव आयोग को पूरे के पूरे संसदीय व विधानसभा क्षेत्रों का चुनाव रद्द कर पुनर्मतदान कराना पड़ता था। अन्ततः टी एन शेषन जैसे तत्कालीन मुख्य चुनाव आयुक्त की सख्ती से राजद के बूथ लुटेरों व गुंडों पर लगाम लगा। आज बंगाल में भी टीएमसी की गुंडागर्दी के खिलाफ आयोग को वैसी ही सख्ती बरतने की जरूरत है। बूथ लूट और चुनावी हिंसा के डेढ़ दशकीय दौर में बिहार में जहां 641 लोग मारे गए थे वहीं छपरा, पूर्णिया और दो-दो बार पटना संसदीय क्षेत्र तथा दानापुर विधान सभा क्षेत्र के सम्पूर्ण मतदान को रद्द कराना पड़ा था। धांधली और बूथ लूट की शिकायतों के बाद 1990 के बिहार विधान सभा चुनाव में 1,239, 1995 में 1,668 और 2000 में 1,420 मतदान केन्द्रों पर चुनाव आयोग को पुनर्मतदान का निर्णय लेना पड़ा था। टीएमसी और ममता बनर्जी की तरह तब बिहार में भी राजद-कांग्रेस के लोग चुनावी हिंसा, धांधली, बूथ लूट को नजरअंदाज कर आयोग के पुनर्मतदान के निर्णयों के विरोध में खड़े रहते थे। आयोग की कड़ी कार्रवाई से न केवल राजद के बूथ लुटेरों पर नकेल कसा बल्कि हिंसा का दौर भी थमा। चुनाव आयोग द्वारा प. बंगाल के हालात के मद्देनजर एक दिन पहले चुनाव प्रचार को रोकना कोई अप्रत्याशित निर्णय नहीं है। आयोग की कार्रवाई का यह पहला कदम हो सकता है, मगर उसकीे सख्ती और आम मतदाताओं की जागरूकता का बिहार की तरह बंगाल में भी असर होगा।
Download
PRESS RELEASE 1-15-05-2019.docx
PRESS RELEASE 1-15-05-2019.pdf



पाटलिपुत्र लोक सभा क्षेत्र के पालीगंज में आयोजित जनसभा में मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने हुंकार भरते हुए ‘‘फिर से मोदी आएगा’’ कविता सुनाकर विरोधियों पर प्रहार किया और अपनेे दमदार वापसी का शंखनाद किया।
Date : 2019-05-15
फिर से मोदी आएगा, फिर से मोदी आएगा।
खाया है न खायेगा, देश को बचाएगा।
फिर से मोदी आएगा, फिर से मोदी आएगा।
क्यों?
क्योंकि, देश की है आन मोदी, देश की है शान मोदी,
गरीबों की है जान मोदी, हीरो की है खान मोदी,

गुरुओं की वाणी मोदी, गंगा का है पानी मोदी,
राणा की कहानी मोदी, शिवा की जवानी मोदी,
सेहत की दहाड़ मोदी, सब को पछाड़ मोदी,
सबसे आगे आएगा,
अरे फिर से मोदी आएगा।
राज कर जाएगा, फिर से मोदी आएगा।

14 में भी मोदी आया, 19 में भी आएगा,
फिर से मोदी आएगा, फिर से मोदी आएगा।
क्यों? क्योंकि मोदी फिर से आएगा,

तुमको लगता गीदड़ मिलके, शेर को हराएंगे,
उल्लुओं का पूँछ है कि शेर डर जाएंगे,
कुत्ते चाहे कितने भांैके, हाथी हाथी होता है,
नेकी करने वालों का राम भक्त होता है,
भक्त महादेव का, झंडा वही गाडे़गा,
देश के विरोधियों का, कपड़े वही फाडे़गा,
साम दाम दंड भेद, मोदी को मिटाओगे,
खुद श्मशान है, उसे क्या दफ्नाओगे?

फिर से मोदी आएगा, फिर से मोदी आएगा।
Download
PRESS RELEASE 1-15-05-2019.docx
PRESS RELEASE 1-15-05-2019.pdf



नमो को ‘नीच’ कहने वाली कांग्रेस शब्दकोश से चुन-चुन कर दे रही गालियां
Date : 2019-05-14
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘नीच’ कह कर गाली देने पर राहुल गांधी ने दिखावे के लिए उन्हें 2 साल के लिए पार्टी से निलम्बित किया था। आज श्री अय्यर ने एक पत्रिका में लिखा है कि ‘वे (नरेन्द्र मोदी) जिस लायक थे, वैसा शब्दों का मैंने प्रयोग किया था।’ 2019 के लोकसभा चुनाव के छठे चरण के मतदान के बाद हार तय देख कर बौखलाई कांग्रेस शब्दकोश से चुन-चुन कर नरेन्द्र मोदी को गालियां दे रही हैं।
कांग्रेस ने नरेन्द्र मोदी के लिए ‘गंदी नाली का कीड़ा, भष्मासुर, बदतमीज, नालायक, झूठ का सौदागर, रावण, सांप-बिच्छु, गद्दाफी, हिटलर, मुसोलनी, जवानों के खून का दलाल, पागल कुत्ता, बंदर आदि गालियां देने के साथ ही उन्हें ‘बोटी-बोटी कर दूंगा’ की धमकी भी दे चुकी है। नेहरू-गांधी परिवार की सत्ता के एकाधिकार को चुनौती देने वाले गरीब परिवार में जन्मे नरेन्द्र मोदी के लिए कांग्रेस जितनी भी गंदी गालियां हो सकती हैं अब तक सब का प्रयोग कर चुकी है।
राहुल गांधी एक ओर तो प्यार की राजनीति करने का दिखावा करते नहीं थकते हैं, दूसरी ओर प्रधानमंत्री को चोर कह कर नारा लगवाते और अपने सिपहसलारों से उन्हें चुन-चुन कर गालियां दिलवाते हैं।
राहुल गांधी की मम्मी सोनिया गांधी के नरेन्द्र मोदी को ‘मौत का सौदागर’ और मणिशंकर अय्यर द्वारा ‘नीच’ कह कर गाली देने का अंजाम कांग्रेस गुजरात में भुगत चुकी है। सत्ता के लिए बौखलाई कांग्रेस की एक-एक गाली का जवाब देश की जनता अपने वोट की ताकत से देकर 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उसे धूल चटा देगी।
Download
GALI-14-05-2019.docx
GALI-14-05-2019.pdf



Insert title here